विशुन राजदेव टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज, किरतपुर राजाराम, भगवानपुर(वैशानी) शिक्षा के क्षेत्र में एक अनोखी कृति है. इसकी स्थापना परम आदरणीय, महान समाज सेवी, कर्मठ, निष्ठावान, परोपकारी एवं बहुमुखी प्रतिभा के धनी श्री राजदेव बाबू द्वारा की गयी| शहर के कोलाहल एवं प्रदूषित पर्यावरण से दूर प्रकृति की गोद में अवस्थित यह महाविद्यालय इनके दूरगामी, बहुआयामी एवं कल्याणकारी चिंतन, दर्शन एवं सोच की उपज है| ये सरल जीवन उछ विचार की साक्षात मूर्ति हैं; इन्होने निरंतर कोशिश, उधम, आत्मविश्वास, सेवा एवं त्याग के बल पर इस नन्हें शिशु को जन्म दिया| अपने अथक प्रयास, मेहनत, लगन एवं दिलों में जागृत सामाजिक सेवा भाव की बदौलत हमारे समाज में व्याप्त अशिक्षा, अज्ञानता एवं अन्धविश्वास के दानव को हमेशा-हमेशा के लिए दूर भगाने का साहसिक प्रयास किया है|

उन्होंने समाज को हमेशा राष्ट्रहित, जनहित एवं समाज हित की भावना से प्रेरित हो कर नई उपलब्धियाँ प्रदान की है| आज के बढ़ते परिवेश में जहाँ एक तरफ शिक्षा का व्यवासयीकरण हुआ है वही दूसरी और विशुन राय मेमोरियल एजुकेशनल एंड वेलफेयर ट्रस्ट, किरतपुर राजाराम, भगवानपुर(वैशाली) द्वारा संचालित सभी शिक्षण संस्थानों में निर्धारित सीटों के 60% सीटों पर राज्य एवं समाज के उस अर्थहीन, असहाय, निर्धनता रूपी बीमारी से ग्रसित पिता के मेघावी एवं प्रतिभाशाली पुत्र एवं पुत्रियों का नामांकन निःशुल्क किया जाएगा| वैशानी गणतंत्र की जननी रही है| वैशाली गणराज्य की पावन धरती से सुदूर देहाती क्षेत्रों के छात्रों के बीच शिक्षा का अलख जगाने हेतु, जो अज्ञानता के अंधकार में डूबे हुए हैं जो निर्धनता के लाईलाज रूपी बीमारी से ग्रसित हैं, उन्हें ज्ञान रूपी प्रकाश में लाने का निरंतर प्रयास कर रही है| विशुन राजदेव टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज को पूर्व क्षेत्रीय समिति, राष्ट्रिय अध्यापक शिक्षा परिषद, भुवनेश्वर द्वारा प्राप्त 100 सीटों के 30% सीटों पर मेघावी छात्रों का नामांकन निःशुल्क लिया जाएगा.

Comments are closed.